Connect with us

मधुबनी

अंधविश्वास का भयानक खेल : मृत लड़की को ज़िंदा करने के लिए सांप से कटवाया गया

Published

on

मधुबनी : जिले के जयनगर अनुमण्डल मुख्यालय के वार्ड नम्बर-10 के निवासी अनिल ठाकुर की लगभग 5 वर्षीया पुत्री सोनाक्षी अपने घर के बाहर खेल रही थी। इसी दौरान अचानक एक सांप ने उसे डस लिया।

जिसके बाद परिजन उसे अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया । अब इसके बाद शुरू हुई रोंगटे खड़े कर देनेवाली वह वारदात जिसे देख पाना भी सबके वश की बात नहीं। आस-पास के किसी व्यक्ति ने सोनाक्षी के परिजनों को कह दिया कि अगर सांप इस बच्ची का जहर चूस ले तो यह बच जाएगी ।

जिसके बाद आनन-फानन के एक तांत्रिक कहीं से सांप पकड़ लाया और फिर जहां सोनाक्षी को सांप ने डसा था, उस जगह फिर से डसवाया जाने लगा। अंधेरी कोठरी में बहुत कम प्रकाश में बार-बार सांप से सोनाक्षी को डसवाया गया, लेकिन सोनाक्षी बच न सकी। आज के पढ़े-लिखे सभ्य समाज में घटना एक दाग जैसी ही है।

मधुबनी से विष्णु की रिपोर्ट

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Breaking News

बीएमपी जवान ने की आत्महत्या, 2013 बैच में हुई थी भर्ती

Published

on

MADHUBANI:मधुबनी जिले के पतौना थाना अंतगर्त बीएमपी जवान ने अपने से ही गोलीमार कर आत्महत्या कर ली । रंजीत कुमार यादव नाम के बीएमपी जवान जो की अरवल जिले के रहने वाला है । मृतक का नाम रंजीत कुमार यादव पिता सूबेदार यादव घर रतनबीघा थाना कुर्था जिला अरवल जिला का रहने वाला था। वह 2013 बैच का सिपाही था। मधुबनी में उसकी प्रथम पोस्टिंग हुई थी। उसे सिवौल में महाबीरी झंडा और जुलुस ए मोहम्मदी में डिउटी के लिए जिले से भेजा गया था। उसने अपने साथी सिपाही आमोद कुमार झा के रखी राइफल से सर में गोली मार कर आत्महत्या कर ली है। घटना सुबह पौने दस बजे की वतायी जा रही है। मृतक सिपाही के साथ चार राइफल पार्टी और चार लाठी पार्टी भी सिवौल के विद्यालय के कमरे में ठहरे थे।

Continue Reading

Breaking News

मधुबनी के कोरियाही गांव के चवर में गिरा उल्कापिंड

Published

on

मधुबनी जिला के लौकही  और कौरियाही गांव के चवर में सोमवार को आसमान से गिरा बड़ा पत्थर इलाके में कौतूहल का विषय बना हुआ है। गांव के चवर में आसमान से अचानक गिरे इस पत्थर का वजन 15 किलों का है। जब यह पत्थर आसमान से गिरा तो इसकी आवाज काफी दूर तक धमाके की तरह गुंजा। पत्थर के गिरने वाली जगह पर 5 फीट गहरा गड्ढा बन गया है। आवाज सुनते ही आस पास के लोगों ने गड्ढों से इस पत्थल निकाला।

निकाला गया पत्थर लोहा मिश्रित दिख रहा है। जिसमे चुम्बक भी आसानी से सट जा रहा है। पत्थर सोमवार लगभग 12:00 बजे आसमान से गिरा पत्थर। अभी इस पत्थर को फिलहाल कौरियाही चौक पर रखा गया है l पत्थर लौकही थाना की देखरेख में है। स्थानीय पुलिस ने इसकी जानकारी जिले के डीएम शीर्षत कपिल को दी गयी है। अनुमान लगाया जा रहा है जल्द ही इस पत्थर को जांच के लिए इसरो को दे दिया जाएगा।

घटना के संबंध में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि लौकही के कौरियाही-ककहिया बधार में आसमान से एक पिंड सोमवार दोपहर लगभग 12 बजे गिरा। खेतों में काम कर रहे किसानों में अफरा-तफरी मच गई। प्रत्यक्षदर्शी किसानों ने बताया कि तेज आवाज के साथ पिंड जब खेत में गिरा तो धुआं निकलने लगा। लगभग छह फुट नीचे तक चला गया। खेतों में काम कर रहे मजदूर वहां से भाग गए। थोड़ी देर बाद जब धुआं निकलना बंद हुआ तो वो वहां पहुंचे।

पटना से अजय भारत के लिए नवनीत की रिपोर्ट

Continue Reading

बिहार

धूमधाम से मनाई जा रही स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज का 76 वां जन्मोत्सव

Published

on

मधुबनी : पुरी पीठाधीश्वर स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज का 76 वां जन्मोत्सव महाराज के जन्म स्थान कलुआही प्रखंड के हरिपुर बख्शी टोल में आज 30 जुन को आषाढ़ कृष्ण त्रयोदशी तिथि को मनाई जा रही हैं। इसकी जानकारी देते हुए पुरी पीठ के मीडिया प्रभारी सह कार्यक्रम संयोजक शैलेश तिवारी ने बताया की इस अवसर पर गांव में प्रभात फेरी, शिव मंदिर में रुद्राभिषेक, महाराज जी के जन्म डीह पर सुंदरकांड, के अलावे पौधरोपण एवं शंकराचार्य जी पुस्तकों का विमोचन किया जाएगा। जिसमें बड़ी संख्या में लोग भाग लेंगे। गौरतलब है कि पिछले साल महाराज जी 75 वें जन्मदिवस पर बख्शी टोला में पहली बार सनातन संस्कृति दिवस के तौर भव्य आयोजन किया गया था जिसमें प्रसिद्ध विद्धानों और बुद्धिजीवीयों ने भाग लिया था। जिसके बाद प्रति वर्ष इस तरह के आयोजन का करने का निर्णय लिया गया था।

वहीं इस मौके पर मधुबनी जिला के कलुआही प्रखंड अंतर्गत हरिपुर बख्शी टोला में जहां उनका जन्म हुआ है आज वहां के ग्रामीणों ने कई कार्यक्रमों को आज आयोजित कर उल्लास पूर्ण माहौल में जन्मोत्सव मनाया जा रहा है। शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज इसी बक्शी टोला में जन्म लिए थे और 11 वर्ष की अवस्था में ही उन्होंने घर छोड़ कर संत के मार्ग पर चल पड़े थे। आज उनके इस मार्ग पर चलते हुए जीवन के 75 वर्ष हो चुके हैं उनके इस जन्मोत्सव पर छत्तीसगढ़ सरकार राजकीय उत्सव के तौर पर मनाती है।जबकि उनके मधुबनी जिले में जहां उनका जन्म हुआ वहां बमुश्किल उनके गांव में पिछले 2 सालों से कार्यक्रम आयोजित कर शंकराचार्य महाराज को शुभकामनाएं दी जाती है।

मधुबनी से संजय झा की रिपोर्ट

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.