कृषि बिल के विरोध में भारत बंद का आह्वान , विरोध में सड़क पर ट्रैक्टर चलाएंगे तेजस्वी, कांग्रेस का प्रोटेस्ट, जाप का बिहार बंद

कृषि बिल के विरोध में भारत बंद का आह्वान , विरोध में सड़क पर ट्रैक्टर चलाएंगे तेजस्वी, कांग्रेस का प्रोटेस्ट, जाप का बिहार बंद

पटना. नये कृषि बिल ( New Agriculture Bill) के विरोध में शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति द्वारा बिहार में  विरोध प्रदर्शन किया जाएगा. विभिन्न राजनीतिक संगठनों द्वारा भी इस विरोध प्रदर्शन को समर्थन दिया गया है. कृषि बिल के खिलाफ महागठबंधन (Grand Alliance) के सभी दलों ने सड़क पर उतरने का ऐलान किया है. इसी क्रम में किसान संघों के बंद को कांग्रेस, राजद और वाम दलों  (Congress, RJD and Left Parties) ने भी समर्थन दिया है. कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे और बंद को सफल बनाने में अपनी मदद करेंगे. वहीं आरजेडी नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) ने कृषि विधेयक के विरोध में सड़क पर प्रदर्शन करने का ऐलान किया है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि NDA सरकार लगातार गरीब और किसान विरोधी फैसले ले रही है. केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार को संख्या बल का इतना गुमान है कि बगैर किसानों, उनके संगठन और राज्य सरकार से राय-मशवरा किये कृषि क्षेत्र का भी निजीकरण, ठेका प्रथा और कॉर्पोरेटीकरण कर रही है.  तेजस्वी यादव ने कहा कि लोकसभा में एकतरफ़ा 3 कृषि विधेयकों का पास कराना किसानों के हाथ काटने जैसा है.

नेता प्रतिपक्ष ने केंद्र सरकार से किसान विरोधी अध्यादेश को तुरंत वापस लेने की मांग की है.  शुक्रवार को इसी मांग के साथ सड़क पर ट्रैक्टर चलाकर तेजस्वी यादव किसान बिल का विरोध करेंगे. बिल के विरोध में भाकपा माले 12:00 बजे पटना के बुद्ध स्मृति पार्क के पास प्रदर्शन करेगी. वहीं, जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव नेतृत्व में किसान विरोधी कानून के खिलाफ बिहार बंद का आयोजन किया गया है. पप्पू यादव इनकम टैक्स गोलम्बर से 10 दिन में निकलकर डांकबंगला चौराहा पर जाएंगे.

बता दें कि केंद्र सरकार के इस नये कानून का सीएम नीतीश कुमार ने सपोर्ट किया है. गुरुवार को अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि जो लोग कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं, वे लोग इसके बारे में भ्रम फैला रहे हैं. सीएम नतीश ने कहा कि यह बिल किसानों के के पक्ष में है और इसमें बेहतर प्रवाधान किए गए हैं. विपक्ष के लोग इस मुद्दे पर केवल राजनीति कर रहे हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में पहले कृषि उपज के नाम पर कुछ नहीं होता था. हमारी सरकार ने किसानों के फायदे के लिए काफी कुछ किया है.