Connect with us

बाढ़

मुंगेर संसदीय क्षेत्र की कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती नीलम देवी ने किया बाढ़ विधानसभा क्षेत्र का तूफानी दौरा

Published

on

BADH: चुनाव की तिथि जैसे जैसे नजदीक आती जा रही है, मौसम की तपिश को भूल प्रत्यासी और उनके कार्यकर्ताओं ने जनसंपर्क अभियान को और तेज कर दिया है।इसी क्रम में मोकामा विधायक अनंत सिंह की धर्मपत्नी सह मुंगेर लोकसभा से महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती नीलम देवी ने बाढ़ विधानसभा क्षेत्र में जनसंपर्क कर मतदाताओं से महागठबंधन के पक्ष में मतदान करने की अपील की। आज प्रातः जनसंपर्क पर निकली महागठबंधन प्रत्याशी श्रीमती नीलम देवी जी ने बाढ़ विधानसभा अंतर्गत भेटगाँव, अकबरपुर में जनसंपर्क कर मतदाताओं से आशीर्वाद लिया। इसी क्रम में इबराहिमपुर, दाहौर,अचुआरा ,नेउरा, फुल्लेपुर दक्षिणीचक, कमरापर, रुपस, हासनचक भी जनता जनार्दन के बीच पहुँची।

मुंगेर प्रत्याशी के आगमन की पूर्व निर्धारित कार्यक्रम की जानकारी होने के कारण महागठबंधन के कार्यकर्त्ता जगह-जगह सड़क के किनारे इन्तजार कर रहे थे।श्रीमती नीलम देवी के आगमन पर जगह-जगह समर्थकों ने अपने प्रत्याशी को फुल-माला पहनकर स्वागत किया। कांग्रेस प्रत्याशी नीलम देवी जी के आगवानी के लिए युवा, बुजूर्ग से लेकर महिलाएं और बच्चे भी मौजूद थे। नीलम देवी के पहुँचते ही महिलाओं ने जोरदार स्वागत किया। महागठबंधन प्रत्याशी के पक्ष में महिलाएं गाँव के गली-गली घूमकर प्रचार प्रसार करती हुयी नजर आयी।

इस दौरान लोगों को संबोधित करते हुए प्रत्यासी ने कहा कि आप सब को अपने मुंगेर के पांच साल का भविष्य तय करना है। मुंगेर को विकास के पथ पर ले जाने के लिए,युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए,किसानों के फसलों को उचित मूल्य दिलाने के लिए, मनरेगा में मजदूरों को 150 दिन का रोजगार दिलाने, हर व् गरीब को न्याय के अंतर्गत 72 दिलाने का वादा कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में की है। कांग्रेस पार्टी करने में विश्वास रखती हैं। इस बार हम आर-पार की लड़ाई लड़ रहे हैं,हमारी लड़ाई इस मुंगेर की धरती को अहंकारियों और घमंडियों से मुक्त कराने की है,हमारी लड़ाई मुंगेर की जनता को स्भाविमान और सम्मान दिलाने की है। हमारी लड़ाई झूठ फरेब पर सच्चाई की जीत दिलाने की है। हम इस लड़ाई को बेहतर तरीके से लड़ रहे हैं। विरोधी ने तो अपनी हार मान भी ली है,बस नाम के लिए मैदान में हैं। इस मुंगेर की धरती पर हमारी महागठबंधन की जीत सुनिश्चित है। जब आपको उन्हें अपनी हार अभी से ही दिख रही है तो हमारे समर्थकों को जेल में बंद करवाने के लिए साजिशें रच रहे हैं। हमारे कार्यकर्त्ता जोश और जुनून से लबरेज हैं, निडर हैं। कार्यकर्त्ताओं और जनता से हम कहना चाहते हैं कि मोकामा विधायक ने पिछले 15 साल से मोकामा में विधानसभा में जनता की सेवा की हैं यहीं नहीं अपने क्षेत्र की सीमा को लांघते हुए पुरे इलाके के लोगों की मदद की है। हमारे घर के दरवाजे 24 घंटे आपके लिए खुले थे,खुले हैं और हमेशा खुले रहेंगे।

बाढ़ से ललन कुमार

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Breaking News

दानापुर-मोकामा पैसेंजर ट्रेन का इंजन फेल, ढ़ाई घंटे से खड़ी है ट्रेन

Published

on

BAKHTIYARPUR: बख्तियारपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक पर डाउन मोकामा पैसेंजर ट्रेन का इंजन फेल हो गया। इंजन के फेल हो जाने के कारण 2:30 घंटे से ट्रेन वहीं पर रुकी हुई है। जिसके कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

तकनीकी विभाग के लोग पहुंचे मौके पर

आपको बता दें कि इंजन में तकनीकी खराबी आ गई है जिसके कारण उसे रोक दिया गया । वहीं डाउन लाइन की ट्रेन को प्लेटफार्म संख्या 3 से गुजारा जा रहा है। मौके पर तकनीकी कर्मी पहुंच चुके हैं। इंजन की खराबी को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।

Continue Reading

झारखंड

3 दिन की बारिश ने ढ़हाया 7 करोड़ का पुल, मुख्यालय से कटा संपर्क

Published

on

PAKUD:  लगातार 72 घंटे से हो रही मूसलाधार बारिश का कहर पाकुड़ ज़िले के विभिन्न प्रखंडों में देखने को मिल रहा है। जहां बारिश के कारण शहर से लेकर गांव तक के पूरे इलाके जलमग्न हो गए हैं। जिसके कारण आम जनता की आवा जाही बंद सी हो गई है। सड़क तालाब में तब्दील हो गए हैं। बारिश का कहर ऐसा है कि मानो खाने पीने पर भी लाले पड़ गए हैं। 3 दिनों से घरों से नहीं निकल पाने के कारण कई घरों के राशन पानी भी समाप्त हो चुके हैं। साथ ही घरों में पानी घुस जाने के कारण सारा सामान बर्बाद हो चुका है।

 

जिससे लोग खाने के लिए भी लालायित हैं। इधर ज़िला प्रशासन एवं प्रखंड प्रशासन की ओर से बाढ़ राहत टीम का गठन कर दिया गया है। जिसके द्वारा बाढ़ क्षेत्र का दौरा कर रिपोर्ट तलब की जाएगी और ग्रामीणों को बाढ़ राहत कोष से सहायता प्रदान की जाएगी। लेकिन ग्रामीणों के द्वारा कहा गया कि 3 दिनों के मूसलाधार बारिश होने के बाद भी अब तक ना ही कोई जनप्रतिनिधि देखने को आया और ना ही ज़िला प्रशासन या प्रखंड प्रशासन की ओर से कोई पदाधिकारी ग्रामीणों से रूबरू एवं हालचाल पूछने आए।

इससे ग्रामीणों में काफी रोष देखने को मिला। ग्रामीणों का कहना है की ज़िला प्रशासन एवं प्रखंड प्रशासन दोनों ही कान में तेल डालकर सोई हुई है। हमलोगों के पास खाने को राशन नहीं है और ना ही पीने को पानी साथ ही अगर कोई बीमारी हो जाए तो शहर अस्पताल दिखाने के लिए कैसे ले जायेगें यह सोचने का विषय है। वहीं दूसरी ओर ज़िले के महेशपुर प्रखंड के चंडाल मारा गांव में वर्ष 2015 में 7 करोड़ रुपए की लागत से जमाल कंसट्ररक्शन से बनी पुल लगातार वर्षा होने के कारण ढह गया। जिसके कारण ग्रामीणों का शहर से संपर्क टूट गया है। वहीं ग्रामीणों की माने तो यह भ्रष्टाचार का कारण है। क्योंकि सिर्फ 3 दिन कि बारिश का बोझ नहीं झेल पाया।

 

वहीं टीएमसी के नेता साइमन मरांडी ने कहा कि रघुवर सरकार की भ्रष्टाचार साफ दिखाई पड़ रही है के 3 साल भी नहीं हुआ और 3 दिनों की बारिश में पुल का आधा भाग गिर गया। यह भ्रष्टाचार का आलम नहीं है तो और क्या है। इसके साथ ही साथ पाकुड़ प्रखंड के कई इलाकों मैं लगातार भारी वर्षा होने के कारण जिगर हट्टी, देव तल्ला, मनीरामपुर इलामी तारानगर सहित प्रखंड के 18 पंचायतों में स्थिति खस्ताहाल हो चुकी है।

इस बाबत जब प्रखंड विकास पदाधिकारी रौशन शाह से संपर्क किया गया तो बताया कि बाढ़ राहत कार्य हेतु ज़िला प्रशासन एवं प्रखंड प्रशासन आम जनता की सेवा करने के लिए तत्पर है और राहत सामग्री की पैकिंग शुरू कर दी गई है। बहुत जल्द ही ग्रामीणों के बीच राहत सामग्री का वितरण किया जाएगा एवं बाढ़ राहत कार्य के लिए टीम का भी गठन किया गया है। अभी तक जलस्तर ऊपर नहीं पहुंचा है प्रशासन अपने दृष्टि गड़ाए हुए हैं। वहीं ग्रामीणों की माने तो यह सिर्फ खानापूर्ति है।

 

 

पाकुड़ से मनोज की रिपोर्ट

Continue Reading

Breaking News

बाढ़ के विधायक जी लापता है, खोजने वाले को मिलेगा 101 रुपये का इनाम

Published

on

BARH:लोकतंत्र में किसी विधायक को लापता होने, और ढूंढ कर लाने वाले को 101 का इनाम देने से संबंधित फोटो युक्त पोस्टर यदि किसी प्रखंड के मतदाता सार्वजनिक रूप से जारी करते हैं, तो उस प्रखंड के मतदाताओं की जन-आक्रोश को समझा जा सकता है।

आजकल इसी तरह के जन आक्रोश का कोप-भाजन बने हुए हैं, बाढ़ विधानसभा क्षेत्र के बीजेपी विधायक ज्ञानेंद्र कुमार सिंह ज्ञानू जी! विदित हो कि बाढ़ विधानसभा क्षेत्र के अथमलगोला प्रखंड अंतर्गत रामनगर दियारा पंचायत के वार्ड नंबर 11 गंगा की जल स्तर में अप्रत्याशित वृद्धि के कारण पूरी तरह डूब चुका है।

लोग परिवार के साथ सड़क पर रहने को मजबूर हैं। ऊपर से आसमानी बारिश भी इन लोगों को बेबस किए हुए हैं। सरकार द्वारा दी जाने वाली राहत सामग्री भी कम पड़ने लगी है।क्योंकि ये लोग बाढ़ का दंश हफ्ते भर पहले से झेल रहे हैं,लेकिन अब तक स्थानीय विधायक का ना तो कोई पैगाम यहां तक पहुंचा है और ना वे खुद ही।

यही वजह है कि यहां के लोग विधायक पर काफी नाराज हैं और उनको आने वाले चुनाव में ‘जूते का माला ‘पहनाने तक को अमादा है। इन लोगों का कहना है कि तीन बार इनको विधायक बनाने में हम लोगों ने अहम भूमिका निभाई है लेकिन इस विपत्ति की घड़ी में वह हमारे साथ नहीं है।

बाढ़ से ललन सिंह की रिपोर्ट।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.