Connect with us

बिहार

मरीज को तड़पता छोड़ खर्राटे भरते रहे अस्पतालकर्मी, दूसरे मरीजों की उड़ी नींद

Published

on

BEGUSARAI : बेगूसराय सदर अस्पताल में आज संवेदनहीनता का जीता जागता उदाहरण का मामला प्रकाश में आया है। जहां एक अज्ञात मरीज को तड़पते देख अन्य मरीजों
के परिजन तो बेचैन रहे लेकिन मरीज की देखरेख के लिए ड्यूटी में तैनात पुलिसकर्मी एवं अन्य कर्मी सो कर या इधर-उधर टहल कर अपनी रात बिताने में ही अपनी भलाई समझी ।

मामला बरौनी गढ़हारा रेलवे की है जहां एक अज्ञात मरीज को तड़पते हालत में मंगलवार की देर रात इलाज के लिए सदर अस्पताल बेगूसराय में भर्ती कराया गया। उसकी देखरेख के
लिए तैनात किए गए कर्मियों की लापरवाही से मरीज की स्थिति सुधरने के बजाय लगातार बिगड़ते गई।

इलाज करा रहे हैं अन्य रोगी के परिजन ने आरोप लगाया कि पूरी रात मरीज तड़पते रहा लेकिन किसी ने उसको देखना मुनासिब नहीं समझा। दूसरे रोगी के परिजन महिला मंगली
देवी ने आरोप लगाया कि बेचैन मरीज के हाथ में लगे स्लाइन हाथ से खुलकर अलग लटका रहा लेकिन सुबह होने तक भी कोई उस मरीज को देखने नहीं आया।

बेगूसराय से जितेन्द्र कुमार की रिपोर्ट …

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Breaking News

प्रेम प्रसंग में एक युवक की हत्या मामले में पांच दोषियों को उम्र कैद की सजा

Published

on

ARA : एडीजे तीन की त्रिभुअन यादव की अदालत ने हत्या के एक मामले में पांच दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। मामला 4 साल पहले 2016 का है। जब उदवंत नगर थाना अंतर्गत दरियापुर गांव में 15/04/2016 को प्रेम प्रसंग में एक युवक वीर बहादुर की घर से बुलाकर  हत्या कर दी गई थी। मामले में पांच अभियुक्त को अदालत ने पहले ही दोषी करार दिया था। आज सजा के बिंदू पर बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता संजीव कुमार एवं अन्य ने बहस  की जबकि अभियोजन की तरफ से अपर लोक अभियोजक प्रशांत रंजन ने बहस की। अदालत ने बचाव पक्ष की इस दलील को स्वीकार किया कि सभी का पहला अपराध है इसलिए न्यूनतम सजा दी जाए।

साथ हीं अदालत ने इस दलील को भी स्वीकार किया कि जेल में काटी गई सजा को कुल सजा से कम किया जाए। साथ ही अदालत ने दोषी विशाल कुमार को आर्मस एक्ट में भी दोषी करार दिया तथा तीन साल की सजा सुनाई। दोनो सजा साथ साथ चलेंगी। इसके अलावा अदालत ने चार दोषियों पर पांच पांच हजार का अर्थ दंड भी लगाया है। जबकि विशाल कुमार पर कुल छह हजार का अर्थ दंड विभिन्न धाराओं में लगाया है। सजा सुनाए जाने के बाद अपर लोक अभियोजक प्रशांत रंजन ने बताया कि अभियोजन ओर से पेश किए गए साक्ष्य एवं दलील को स्वीकार करते हुए अदालत ने दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनाई है।  उन्होंने फैसले पर संतुष्टि जताई है. जबकि बचाव पक्ष के अधिवक्ता संजीव कुमार ने फैसले को उच्च न्यायालय में अपील करने की बात कही है।

 

Continue Reading

Breaking News

घरेलू हिंसा के खिलाफ इनर व्हील क्लब ऑफ पटना के मेंबर्स ने निकाली रैली

Published

on

PATNA: घरेलू हिंसा और महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ शुक्रवार को इनर व्हील क्लब ऑफ़ पटना के मेंबर्स ने रैली निकाली. क्लब के दो दिवसीय कार्यक्रम के तहत क्लब के मेम्बर्स ने आज बख्तियारपुर में घरेलू हिंसा और महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ के एक रैली निकली. साथ ही इस दौरान क्लब की जिला अध्यक्ष सरिता प्रसाद ने इनर वील्ह ब्रांडिंग के लिए बख्तियारपुर NH-31 स्थित होटेल महाविहार में एक इनर वील्ह पार्क और इनर वील्ह lOGO का उद्घायन किया.

इस मौके पर कल्ब की प्रेसिडेंट संध्या सरकार, विभा चरण पहाड़ी, प्रियंका, पूनम अग्रवाल, संगीता वर्मा, उषा सिन्हा, श्रुति अग्रवाल, अंजू गुप्ता,  स्वेता झा ,चंद गुप्ता अनु अग्रवाल ,विणा मित्तल ,रेखा ,रजनी ,दिव्य निकेता ,कंचन समेत अन्य सदस्याएं मौजूद थीं.

Continue Reading

Breaking News

बिहार में NDA को लोजपा की खरी-खरी, 43 सीटों से पर ठोकी दावेदारी

Published

on

PATNA: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में अभी काफी समय है, लेकिन सीटों को लेकर अभी से ही दावेदारी ठोकने का दौर शुरू हो गया है. इसी क्रम में लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान के छोटे भाई और दलिच नेता के राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने अभी से 43 सीटों पर लोजपा की दावेदारी ठोक दी है. शुक्रवार को पारस ने ऐलान किया कि लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी का स्ट्राइक रेट 100 फीसदी रहा है, ऐसे में जाहिर है उनकी दावेदारी पक्की है. लोकसभा चुनाव के दौरान NDA में सीटों का फॉर्मूला 17:17:6, ऐसे में विधानसभा में भी इसी फॉर्मूले का प्रयोग होना चाहिए .

बिहार में लोजपा NDA गठबंधन में भले ही सबसे छोटी पार्टी हो लेकिन विधानसभा चुनाव 2020 के शुरुआत में ही लोजपा ने अपने तेवर जाहिर कर दिए हैं. दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने बीजेपी-जेडीयू को दो टूक में कह दिया है कि वो गठबंधन की पुरानी सहयोगी पार्टी है और लोकसभा चुनाव में उनका स्ट्राइक रेट जेडीयू से भी अच्छा था तो जाहिर उनका दावा ज्यादा मजबूत है. इसलिए उन्हें विधानसभा चुनाव में कम से कम 43 सीटें जरूर मिलनी चाहिए क्योंकि पिछले चुनाव में भी लोजपा 43 सीटों पर चुनाव लड़ी थी.

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.