Connect with us

खगड़िया

खगड़िया में मुखिया के पति की गोली मारकर हत्या

Published

on

खगड़िया : जिले में अपराध का ग्राफ थम नहीं रहा है। दिनों-दिन अपराधियों के हौसले बुलं होते दिख रहे हैं। इसी कड़ी में एक ताजा मामला सामने आया है जहां मुखिया के पति की हत्या कर दी गई है। बदमाशों ने मुखिया के पति की गोली मारकर हत्या की है। इस घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है।

जैसे ही इस घटना की जानकारी पुलिस को मिली वह तुरंत ही मौके पर पहुँच गई। जिसके बाद पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। साथ ही मामले की जांच भी शुरू कर दी गई है। जानकारी के मुताबिक, मामला मोरकाही थाना क्षेत्र स्थित माड़र गांव का है। मुखिया रागनी देवी के पति नंदलाल पासवान को अज्ञात अपराधियों ने घर में घुस कर गोली मारकर हत्या की है।

बताया जा रहा है आपसी दुश्मनी के कारण इस घटना को अंजाम दिया गया है। घटना के संबंध में मुखिया के बेटा का कहना है कि उनके पिता सोए हुए थे। उसने यह भी बताया की इसी दौरान देर रात दो बाइक सवार अपराधियों ने घर में घुसकर उनके पिता को गोली मारकर फरार हो गए। इसके बाद उन्हें इलाज के लिए खगड़िया के सदर अस्पताल लाया गया। लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। वहीं, पुलिस का कहना है कि घटना में शामिल अपराधियों के पहचान कर जल्द गिरफ्तारी की जाएगी।

खगड़िया से राजीव की रिपोर्ट

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Main Slider

विधानसभा से पहले नीतीश कुमार को बड़ा झटका, सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने छोड़ी पार्टी

Published

on

KHAGADIYA: खगड़िया में नीतीश कुमार को बड़ा झटका लगा है. सोमवार को सैकड़ों नहीं हजारों की संख्या में जदयू के कार्यकर्ताओं ने पार्टी को बाय-बाय कर इस्तीफा दे दिया. दरअसल कुछ दिनों पूर्व जिला जदयू अध्यक्ष पद के लिए चुनाव प्रक्रिया हुई थी. इसमें बबुलु कुमार मंडल विजय घोषित किया गया था. लेकिन आलाकमान ने बबुलु मंडल को अघोषित कर सोनेलाल मेहता को जिला जदयू अध्यक्ष बना दिया. यह फैसला जिला जदयू के कार्यकर्ताओं को नागवार गुजरी और उन्होंने सरकार के विरुद्ध जमकर प्रदर्शन किया और सामूहिक इस्तीफा दिया.    

Continue Reading

Breaking News

बेटे की चाहत और मोक्ष प्राप्ति की चाहत में दो मासुम हो गए अपने ही घर से बेघर

Published

on

KHAGARIYA : बिहार के खगड़िया जिले के परवात्ता थाना क्षेत्र में देखने को मिला, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी | जी हां हम बात कर रहे है एक अंधविश्वास घटना की जो बेटे की चाहत और मोक्ष प्राप्ति की चाहत में दो मासुम हो गए अपने ही घर से बेघर | हम बात कर रहे हैं अंधविश्वास दामपत्य जोड़े की कहानी, एक शिक्षक को दूसरा भगवान कहा जाता है | गुरु ने बेटे की चाहत और मोक्ष प्राप्ति और दोस्तों के बहकावे में आकर दूसरी शादी कर ली, यह जानते हुए की आज की बेटियां बेटों से कम नहीं है | जबकि आज हम चांद पर बसने की बात करते हैं यह गुरु, अंधविश्वास जैसे मकड़जाल में घिरे हुए हैं ।

क्या महिला को न्याय मिल पाएगी आईए जानते है आगे की कहानी

नारी अपने दाम्पत्य जीवन से परेशान हो होकर खगड़िया जिला के पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई | देखने वाली बात यह होगी कि क्या गया जिले की महिला पुलिस अधीक्षक, इस महिला के साथ न्याय दिला पाएगी या सफेदपेश के आगे अपना घुटने टेक देती है | यहां तक कि उनकी फूल जैसी बेटी से जब पूछा गया वह बोली मेरी मम्मी और मेरे साथ भी पापा प्यार से बात नहीं करते हमेशा मारपीट करते रहते हैं

Continue Reading

Breaking News

विकाश मित्र के मनमाने रूपये मांगने से गरीब नि:सहाय की आंखें हुई नम

Published

on

KHAGADIA: बिहार सरकार जहां एक ओर विकास के दावे कर रही है वहीं जमीनी हकीकत कुछ और ही हाले वयां करती है। जी हां ! मैं बात कर रहा हूँ खगड़िया के मानसी प्रखंड के पश्चिमी ठाठा पंचायत बख्तियारपुर गांव की है | जहां दर्जनों गरीब निसहाय, सरकारी बाबू और प्रतिनिधि का बाट जोह रही है,
जैसे मानो की प्रधानमंत्री आवास योजना,रासन कार्ड योजना इन गरीब नि:सहाय के घर का रास्ता ही भूल चुकी हो, इन गरीबों की घर की स्थिति और इनकी बातों को सुनकर तो लगता है इनके किस्मत में गरीबी और दर्द के सिवा कुछ है ही नहीं है, ऊपर वालों जब किस्मत लिख रहे हैं होगें तो इन गरीबों का कागज कोरा ही छोड़ दिए हो ऐसा ही प्रतीत हो रहा है, और यहां तक कि सरकारी बाबू और सरकारी प्रतिनिधि भी इनकी गरीबी का कम मजाक नहीं उड़ा रहे हैं गरीब नि:सहाय तबके के लोगों से राशन कार्ड के सत्यापन के नाम पर वहां के विकाश मित्र मनमाने रूपये की मांग करते हैं. इतना ही नहीं लचार, बेबस और गरीबों द्वारा पैसे नहीं दिये जाने पर उसका आवेदन अस्वीकृत करवा दिये जाते है. जिससे राशन कार्ड लेने लायक सही लाभुकों तक उसका लाभ नही पहुंच पा रहा है. लेकिन अपने अधिकारों के लिए लंबे समय से संघर्षरत गरीबों की झोली हमेशा खाली रह जाती है। आज गरीबों की हालात बेहद सोचनीय है, स्थिति यह हो गयी है कि एक बड़े काश्तकार को भी अपने परिवार के लालन-पालन के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है, जो स्थिति देशहित में ठीक नहीं है

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.