Connect with us

बक्सर

भादो द्वादशी पर बावन मंदिर में उमड़ी भीड़, लोगों ने किया जलाभिषेक

Published

on

BUXAR : बक्सर के केंद्रीय कारा परिसर स्थित भगवान बावन मंदिर में द्वादशी के दिन लाखों श्रद्धालुओ की भीड़ उमड़ पड़ी।लोगों ने जलाभिषेक कर दान-पुण्य के साथ भगवान बावन का दर्शन किया। मान्यताओं के मुताबिक आज द्वादशी के दिन पवित्र गंगा,कर्मनाशा और गुप्त गंगा नदियों के संगम त्रिवेणी पर स्नान का हमारे धर्म ग्रंथों में जिक्र आया है।

आज के ही दिन विष्णु के बारह अवतारों में से एक भगवान बावन के रूप में आज ही के दिन यहां अवतरित हो रहा बली से तीन पग भूमि की याचना की थी।और तीन पग में ही तीनों लोको को नाप डाला था।तथा ऋषि शुक्राचार्य के स्वर्ग विजय अभियान को विफल किया था।अतः आज भादो माह के द्वादशी के दिन प्रातः सर्व सिद्धि योग के तहत कल्पवास व्रत का पालन करते हुए त्रिवेणी स्नान करते हैं।

भगवान बावन की प्राकट्य स्थल पर आज बिहार ,यूपी,पश्चिम बंगाल,झारखंड समेत कई राज्यो के श्रद्धालु भगवान बावन के दर्शन और पूजा के निमित यहां आते है।अनादि काल से इतर अगर बात मध्यकाल की करे तो हवेन्सांग ने हर्ष चरित्र में सम्राट हर्षवर्धन के भी यहां स्नान का जिक्र किया है।

मंदिर के प्रधान पुजारी बताते है कि बावन द्वादशी भगवान बावन के अवतार पर मनाया जाता है भगवान बावन का आज ही के दिन अवतार हुआ था । वेद पुराणों में यह चर्चा है कि आज के दिन भगवान बावन के मंदिर में आकर असहाय लोगों को दही और चावल दान किया जाता है जिससे कि प्रेत योनी से मोक्ष प्राप्त होता है और विष्णु लोक की प्राप्ति होती है।

बक्सर से संजय कुमार उपाध्याय की रिपोर्ट …

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Breaking News

डबल मर्डर से दहला बक्सर, लूटपाट के दौरान नशेड़ी ने धारदार हथियार से ली जान

Published

on

… BUXAR : बक्सर जिले के बगेन थाना क्षेत्र के भदवर में शनिवार शाम को बदमाशों ने दो युवकों की लाठी-डंडे और धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी। दोनों का शव रात करीब 7 बजे गांव के बगीचे के पास देखा गया,मृतकों की पहचान बरुआ गांव निवासी योगेंद्र पांडेय और कुरुथिया गांव निवासी प्रदीप साह के रूप में हुई है। घटना की जानकारी होते ही दोनों गांवों के बीच सरेशाम हुए इस दोहरी हत्याकांड से इलाके में सनसनी फैल गयी। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिजनों ने बताया कि दोनों बाजार जाने के लिए घर से निकले थे,लेकिन देर शाम तक नहीं लौटे तो घर वालों को लगा कि बाजार में ही लेट हो गई होगी, लेकिन रात में घटना की जानकारी मिली,उन्होंने कहा कि मृतकों का किसी से कोई भी विवाद नहीं था,उन्होंने बताया कि गांव के ही बजरंगी तिवारी जो कि नशेड़ी हैं और उसने इसलोगो के पास पैसा देख लिया और उन्होंने इनसे पैसे छीनने की नीयत से धारदार हथियार से हमला कर दिया होगा, जिससे इनकी मौत हो गई। इनके जेब में लगभग 30 हजार रुपये थे। वहीं पुलिस ने इस मामले में दो लोगो को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दिया है, तथा हरेक पहलुओं पर बारीकियों से जांच शुरू कर दी हैं ताकि इस दोहरे हत्याकांड के कारणों का खुलासा जल्द से जल्द किया जा सके । बक्सर से संजय कुमार उपाध्याय की रिपोर्ट …

Continue Reading

Featured

कभी मुम्बई के फेमस गायकों का गढ़ था मगर आज अपराधियों-जुआरियों का अड्डा

Published

on

BUXAR: 70 के दशक में पर्यटकों को लुभाने के लिए बिहार पर्यटन विभाग के सौजन्य से देश का दूसरा और बिहार का पहला ध्वनि और प्रकाश केंद्र की स्थापना गंगा तट बक्सर के किनारे हुई थी।

ध्वनि और प्रकाश के माध्यम से रामायण की महत्वपूर्ण घटनाओं को स्वरबद्ध कर चित्र के सहारे प्रस्तुत किया जाता था। जहां मशहूर पार्शगायक अजित वाडेकर और गायिका अलका यागनिक ने रामायण की चौपाइयों को अपना स्वर देकर वातावरण को वास्तविक अलौकिक्ता प्रदान की थी।

पर यह विडंबना नहीं तो और क्या है कि तत्कालीन सीएम विंदेश्वरी दुबे के हाथो उद्घाटन के छह माह के भीतर ही इस ध्वनि और प्रकाश केंद्र को वित्तिय घाटा दिखा कर बंद कर दिया गया। ताजा स्थिति यह है कि आज 40 वर्ष होने को आए बावजूद इसके इस ध्वनि और प्रकाश केंद्र की सुध लेने वाला कोई नहीं। निजाम बदलते गए घोषणाएं होती रही। तत्कालीन प्रत्यक्षदर्शी किस्से कहानियों में इस केंद्र का आज भी जिक्र करते है। पर अफसोस आज ध्वनि और प्रकाश केंद्र लगभग अपना अस्तित्व खो चुका है।

दो एकड़ भूमि पर फैलाव लिए लाखों रुपए मूल्य से निर्मित उक्त केंद्र अब सरकार नहीं अपराधियों कि गिरफ्त में है, या यूं कहे बिहार और यूपी के जुआरियों का सुरक्षित पनाहगार बन गया है। सरकार द्वारा यहां परिसर की सुरक्षा हेतु गार्ड प्रतिनियुक्ति भी है। जो जुआरियों व अपराधियों के सामने बेबस है।

बेतरतीब गंदगी का अंबार जल जमाव अब इसकी वास्तविक पहचान बन गई है। जानें पर केन्द्रीय मंत्री सह स्थानीय सांसद आश्विन चौबे ने कहा की इस ध्वनि और प्रकाश केंद्र को राम रूट से जोड़े जाने का प्रयास जारी है।और सदन के इसी सत्र में इसे पूरा किया जाएगा।

स्थानीय सदर विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी से इस मामले पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस मामले को मैं सदन में उठा चुका हूं और मैंने सीएम नीतीश कुमार से भी बात कर चुका हूँ। इसपर बिधिवत कार्यवायी चल रही हैं। अब तो यह वक्त ही बताएगा कि सांसद और विधायक अन्य निजामों की तरह झूठ बोल रहे हैं या सच। अब यह तो आने वाला समय ही बताएगा, मगर लाइट एंड साउंड अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। अतिक्रमण का शिकार है। जुआरियों शराबियों माफियाओं का अड्डा बना हुआ है।

बक्सर से संजय कुमार उपाध्याय की खास रिपोर्ट।

Continue Reading

बक्सर

भारत रत्न बिसमिल्ला खान को लेकर सरकार के वादों को लग रहा दीमक

Published

on

बक्सर : जिले के समवृद्ध वैभव को चंद वाल पेंटिंग के सहारे अपने कर्तव्य का इती श्री मानने वाले जनप्रतिनिधियों द्वारा बार-बार बक्सर को छले जाने का परिणाम ही है कि पर्यटन के क्षेत्र में बक्सर वहीं खड़ा है, जहां सदियों पहले था। हम शहनाई वादक भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्ला खान कि बात कर रहे हैं।

बक्सर स्थित डुमरांव की भूमि पर पैदा होने वाले शहनाई स्मराताप ने अपना बचपन इन्हीं गलियों में गुजारा था। यह दीगर बात है कि सुबे के पूर्व मुख्य मंत्री लालू प्रसाद समेत जिले से जुड़े दर्जनों नेता व वर्तमान सांसद आश्विन चौबे ने शहनाई वादक के जन्म स्थल को पर्यटकों के लिए लोक लुभावन बनाने का वादा तो किया फिर उसी तेजी से मुकर भी गए।

उनकी याद में सिर्फ डुमरांव स्टेशन की दीवारों पर चंद तस्वीरों के अलावा कुछ भी शेष नहीं। विडंबना ऐसी की हाल के दिनों में खंडहर में तब्दील उनके जन्म स्थली पर भू माफियाओं की गिद्ध दृष्टि है। जब की 1991 में जिला बनने के बाद भारत रत्न के जन्म स्थली को धरोहर घोषित कर सहेजने हेतु मुख्य मंत्री के फंड से तीस लाख रुपए की राशि का आवंटन भी है, लेकिन आज की स्थिति देखने से ये साफ पता चल रहा हैं कि वहां 30 लाख तो दूर 30 रुपये भी खर्च नहीं किये गये। इसकी उदासीनता की वजह बक्सर जिलाधिकारी राघवेन्द्र सिंह से मिलकर जानने का प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने टालमटोल रवैया अपनाते हुए कुछ भी बताने से इंकार कर दिए।

हालांकि बिसमिल्ला खान के पड़ोसी सुल्तान खान बताते है कि डुमराँव में जन्मे और यहाँ की गलियों में खेले बिसमिल्ला खा को हमलोग तो हमेशा अपने जेहन में संजोए हुए हैं, लेकिन उनकी याद में यहाँ कुछ नहीं किया गया तो आने वाली नस्ल पूरी तरह से उस महान व्यक्ति को भूल जाएगी। इसलिए हम सरकार से मांग करते है कि यहाँ उनके नाम पर संग्रहालय जरूर बने।

वहीं भारत रत्न उस्ताद बिसमिल्ला खान संघर्ष समिति संयोजक संजय चंद्रवंशी बताते है कि बहुत गर्व की बात हैं कि ऐसे उस्ताद डुमराँव की धरती पर जन्म लिये, लेकिन उनके नाम पर राज्य सरकार द्वारा कुछ नहीं किया गया। माननीय मुख्यमंत्री जी यहां घोषणा किए थे कि राजकीय समारोह का दर्जा दिया जाएगा और दर्जा मिल भी गया लेकिन यहां का जिला प्रशासन नहीं मनाता है। राजकीय सम्मान समारोह तो दूर यहां तक कि उनका एक स्टैच्यू भी नहीं बन पाया कि उनके जन्मदिन या पुण्यतिथि पर एक माला भी चढ़ाया जा सके हम लोगों को दुख है कि उनका जमीन बंजर की तरह दिखाई देता है अगर कुछ उनके नाम पर कुछ बन जाता तो उससे आने वाली पीढ़ियों को कुछ सबब मिलता।

इस मामले पर बक्सर सदर विधायक संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी से बात करने पर उन्होंने बताया कि निश्चित रूप से यह उस्ताद भारत रत्न बिस्मिल्लाह खान की जन्म का जिला रहा है मुख्यमंत्री आदरणीय मुख्यमंत्री लालू प्रसाद जी के कार्यकाल में यह घोषणा की गई थी कि वहां इंडोर स्टेडियम बनाया जायेगा लेकिन राज्य सरकार इस पर विचार नहीं कर रही है और मैं आदरणीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री सह बक्सर सांसद अश्विनी कुमार चौबे से तथा साथ ही साथ यहां के राज्य सरकार से यह मांग करता हूं कि वहां पर भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खान की जन्म स्थली पर इंडोर स्टेडियम का निर्माण कराया जाए एवं एक आदम कद प्रतिमा का यहाँ निर्माण हो।

निश्चित तौर पर यह कहना गलत नहीं होगा कि अगर यहाँ का जिला प्रशासन एवं जन प्रतिनिधि अपनी कुंभकर्णी नींद तोड़कर कुछ जिले का उत्थान के बारे में सोचे, तो बक्सर एक अच्छा पर्यटक स्थल बन जायेगा और यहाँ के लोगों को रोजगार के लिए नए दरवाजे भी खुलेंगे। क्योंकि बक्सर में कई ऐसी चीजें हैं, जिनपर अगर जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधी ध्यान दें, तो बक्सर वाकई में एक नया मुकाम स्थापित करेगा।

बक्सर से संजय उपाध्याय की रिपोर्ट

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.