Connect with us

सासाराम

प्रेम प्रसंग में नाबालिग ने दी जान

Published

on

सासाराम : आज रोहतास जिला से एक दर्दनाक खबर सामने आई है, जहां करगहर थाना अंतर्गत भालुआरी गांव निवासी जाकिर हुसैन की 13 वर्षीय बेटी नगमा ने ट्रेन से कटकर अपनी जान दे दी। वहीं मृतक लड़की के भाई ने बताया कि मेरी बहन नगमा (13 वर्षीय) आज जब हम सभी बकरीद की नमाज अदा करने निकले थे।

उसी दौरान ये घर से भागकर सासाराम आ गई और ट्रेन से कट गई। आपको बता दें कि मामला यह है कि नगमा कुमारी एक लड़के से प्रेम करती थी जिसका परिवार वालों ने विरोध किया। जिसके कारण आज सासाराम आकर ट्रेन से कटकर उसने अपनी जान दे दी। लड़का भी उसी गांव के निवासी है और दोनों एक दूसरे से प्रेम करते थे।

जिसका परिवार वालों ने विरोध करता था कल शाम को लड़की के भाई ने मोबाइल पर बात करते हुए अपनी बहन को देख लिया जिससे वह मोबाइल छीन लिया और लड़की को डाटा जिस लड़की ने विरोध किया और आज सुबह अपनी जान दे दी।

सासाराम से अमित की रिपोर्ट

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Breaking News

सड़क दुर्घटना में बाइक सवार की हुई मौत, दूसरे की हालत गभींर

Published

on

ROHTAS : बिक्रमगंज में स्थानीय थाना क्षेत्र के नोनहर मोड़ के समीप नटवार बिक्रमगंज मुख्य पथ पर सड़क दुर्घटना हुई | घटना के संबंध में बताया जाता है कि बुधवार की दोपहर करीब 12:00 बजे नटवर की तरफ से आ रहे, बाइक सवार केशव प्रसाद सिंह उम्र करीब 55 वर्ष पिता स्वर्गीय लक्ष्मण सिंह व उनके पुत्र विनोद प्रसाद उम्र करीब 27 वर्ष को अनियंत्रित ट्रक के झटके से बाइक सवार बगल के चाट में जा गिरे और कीचड़ से लोटपोट हो गए। दोनों को इलाज के लिए सदर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया | मिली सुचना के अनुसार पिता केशव यादव की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई, वही बेटे विनोद यादव की हालत गंभीर है | विनोद कुमार को पीएमसीच रेफर कर दिया गया है |

Continue Reading

Breaking News

देखने में काला लेकिन सेवन करने पर जिंदगी में भर देगा उजाला

Published

on

SASARAM: कमाल का है चाइना का काला धान। देखने में काला लेकिन सेवन करने पर जिंदगी में भर देगा उजाला। क्यों कि काला चावल में कई औषधीय गुणों की खान से भरापुरा है।इस धान की खेती प्रयोग के तौर पर करनेवाले किसान रजनीश कुमार उपाध्या ने इसे ‘काला अमृत’ नाम दिया है। खासियत यह भी कि धान में सुगंध नहीं पर इसके चावल में खुशबू मन भर। कैंसर व शुगर जैसी बीमारियों में कारगर और बाजार में कीमत 200 से 400 रुपये किलोग्राम। औषधीय गुण वाले यह काला धान कैंसर पीड़ित लोगों के जीवन में उजली सुबह लाएगा तो खेती करने वालों की समृद्धि की दास्तान भी लिखेगा। काला धान की इन्हीं खूबियों से प्रभावित हो रोहतास जिला के मौडिहा गांव के किसान रजनीश कुमार उपाध्याय ने इसका बीज मणिपुर से लाया तथा खेती की। मोडिहा के किसान से रोहतास जिला में शिवसागर प्रखंड के चमरहा और सासाराम प्रखंड के पांजर गांव में भी काला धान की खेती किया गया है। जिसके धान से काला चावल निकल रहा है, यह चावल की औषधीय गुणों की खासियत किसानों को अपने ओर आकर्षित कर रहा है, उत्पादन करने वाले एक किसान मौडिहा गांव के रजनिश कुमार उपाध्या ने बताया कृषि अनुसंधान केंद्र बीएचयू (यूपी) से संपर्क रखते हैं, किसान श्री उपाध्याय ने बताया कि काला धान से निकलने वाले काला चावल की कीमत से किसानों के आर्थिक स्थिति में सुधार होगा वहीं पौष्टिक आहार भी है, हालाँकि इस धान की उपज क्षमता यहां अन्य उत्पादीत धान से कम है लेकिन काला चावल यहां के उत्पादित अन्य चावल से 5 से 8 गुणा अधिक है,वहीं एंटी एक्सीडेंट से परिपूर्ण चावल होने से डिमांड है, इसलिए यह किसानों के लिए काला अमृत है, किसान श्री उपाध्याय ने बताया कि सोसल मिडिया के यूट्यूब से इसकी जानकारी लेने के बाद अपने एक मित्र के सहयोग से मणिपुर के इनफाॅल से धान का बीज लाकर खेत में रोपाई की है, यह धान नागालैंड, असाम में किसानों अधिक उपजाते है ।किसान ने बताया कि अगले बर्ष इसी बीज से बड़े पैमाने पर खेती कर काला अमृत उपजाना उसके बजट में शामिल है ।सासाराम के कृर्षि समन्वयक दीपक कुमार सिंह ने बताया कि काला चावल औषधीय गुणों की खासियत की वजह बाजारों में अच्छा मूल्य मिलते हैं जिससे किसानों के लिए आर्थिक सहायता में मदद मिलता है ।

Continue Reading

बिहार

तेज आवाज के साथ मालगाड़ी के दो डिब्बे पटरी से उतरी, चिंगारियां देख सहमे लोग

Published

on

SASARAM: सासाराम में आज फिर एक बार मालगाड़ी डिरेल हो गई। सासाराम के धनपुरवा गुमटी के पास अप-लाइन में मालगाड़ी के दो डिब्बे पटरी से उतर गए तथा पटरी के किनारे लगे ट्रेक्शन तार के खंभे से टकरा गए। चुकी यह दुर्घटना रेक पॉइंट जाने वाली रेल लाइन पर हुई। जिस कारण अन्य गाड़ियों का परिचालन सामान्य है। बता दें कि इसी महीने के 15 सितंबर को भी इसी जगह पर मालगाड़ी के एक डब्बा डिरेल हो गई थी।

एक हफ्ते के अंदर दूसरी बार एक ही जगह मालगाड़ी के डिब्बे पटरी से उतर जाने के कारण रेलवे संरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं। आखिर एक ही जगह 8 दिनों के अंदर दो बार मालगाड़ी के डिब्बे पटरी से उतर गए। जांच के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा। फिलहाल गया-डीडीयू मुगलसराय रेलखंड के बड़े अधिकारी मौके के लिए रवाना हो चुके हैं। प्रत्यक्ष दर्शियों ने बताया कि तेज आवाज के साथ मालगाड़ी के दो डिब्बे पटरी से उतर गए तथा बिजली के तारों से तेज चिंगारियां भी निकली।

अमित कुमार की रिपोर्ट

Continue Reading

Trending

Copyright © 2019 All Rights Reserved to Ajaya Media and Telecommunication Pvt. Ltd.