बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास

बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास
बिहार में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए  मसीहा दिल्ली का युग संस्कृति न्यास

नई दिल्ली में युग संस्कृति न्यास द्वारा बिहार में आए भीषण बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए राहत सामग्री भेजने का सिलसिला जारी है। युग संस्कृति न्यास के संस्थापक आचार्य धर्मवीर, आयना की संचालिका अवनी गुप्ता और जनमन के संचालक शौर्या रॉय के संयुक्त तत्वावधान में सोमवार को आर के पूरम से लगभग 50 टन राहत सामग्री भेजी गई। यह राहत सामग्री ट्रकों में भरकर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के लिए रवाना की गई जहां से ट्रेन के माध्यम से इसे बिहार के छपरा स्टेशन तक ले जाया जाएगा। इन ट्रकों को वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और नागालैड कैडर में एडिस्नल चीफ सेक्रेटरी ज्योति कलश, आचार्य धर्मवीर, अवनी गुप्ता एवं शौर्या रॉय ने हरी ­झंडी दिखा कर रवाना किया।

इस दौरान भारत सरकार में वरिष्ट अधिकारी ज्याति, आईपीएस अधिकारी बीके सिन्हा, रक्षा विभाग में सलाहकार एवं मेजर जेनरल दिलावर सिंह, भारत मिशन के संस्थापक डॉक्टर साकेत मणि, विश्व हिन्दू परिषद के वरिष्ठ पदाधिकारी दिनेश गोयल,  सिल्का ग्रुप के सीएमडी अमरेंद्र कुमार, अमित रॉय, ट्रस्टी विकास मणि, आदि लोग उपस्थित रहे।


 ट्रकों को हरी झंडी दिखाने के बाद वरिष्ठ आईएएस अधिकारी ज्योति कलश ने आचार्य धर्मवीर की तारीफ करते हुआ कहा कि बिहार के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए जिस प्रकार आप खड़े हैं यह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के दौरान भी जिस प्रकार युग  संस्कृति न्यास ने लोगों की सेवा कि वह एक मिसाल है। बाढ़ पीड़ितों मदद के लिए उठाए गए इन कदमों से निश्चित रूप से लोगों को राहत मिलेगी। 


 आचार्य धर्मवीर ने बताया कि आज जो राहत सामग्री भेजी जा रही है इसमें इनर्जी ड्रिंक, माचिस, मोमबत्ति, टार्च, चप्पल, सेनिटरी नैपकीन, त्रिपाल, मच्छरदानी, पानी साफ करने का किट, मास्क, कपड़े  एवं पीपीई किट आदि सामान हैं। वहीं खाने-पीने की चिजें जैसे चिउड़ा, गुड़, भुना हुआ चना, पाव रोटी आदि हम वहीं से खरीद कर लोगों में बांट रहे हैं। श्री आचार्य ने बताया कि संस्था अबतक 11 ट्रक राहत सामग्री बिहार भेज चुकी हैं। और आज फिर लगभग 50 टन राहत सामग्री ट्रेन के माध्यम से भेज रहे हैं जो मंगलवार को नई दिल्ली स्टेशन से छपरा स्टेशन के लिए रवाना होगी।  जहां सौरभ कश्यप के नेतृत्व में हमारे स्वयंसेवी  बिहार के दस प्रमुख केन्द्रों तक ट्रकों के माध्यम से पहुंचाऐंगे। उन्होंने बताया कि इन केन्द्रों से हमारे स्वयंसेवी  स्थानीय जिला व पुलिस प्रशासन एवं एनडीआरएफ, एसडीआरएफ के सहयोग से जरूरतमंद लोगों में बांटेंगे। उन्होंने बताया कि जनसेवा के इस कार्य में रेलवे प्रशासन का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है। जिनमें पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एल सी त्रिवेदी,  नई दिल्ली डीआरएम एस सी जैन, हरेश कुमार एवं नरेंद्र कुमार आदि लोगों का विशेष सहयोग मिल रहा है।


 अवनी गुप्ता ने बताया कि बाढ़ पीड़ितों की जरूरतों को देखते हुए हम लोगों से अपील कर रहे हैं कि वे सहयोग करने के लिए आगे आएं। लोग खुलकर सहयोग कर भी रहे है। लोगों द्वारा दिये गए सामान जैसे कपड़े, जूते-चप्पल और अन्य जरूरत की चीजों को हम अपने स्वयंसेवियों के माध्यम से इक्कट्ठा कर इसे बिहार भेजने का काम कर रहे हैं। अन्य जरूरी चीजें हम यहां मार्केट से खरीद कर भी भेज रहे हैं।


 शौर्या रॉय ने बताया कि जो सामान हम यहां से भेज रहे हैं और जो वहीं खरीद रहे हैं इन सब को मिलाकर हमारे दसों प्रमुख केंद्रों पर एक किट बना कर लोगों में वितरित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संस्था से जुड़े समाजसेवी हर उन जगहों पर पहुंच रहे हैं जहां लोग शरण लिए हुए हैं। राहत सामग्री वितरण करने के लिए हम अपने समाजसेवियों के अलावा स्थानीय प्रसाशन, एनडीआरएफ एवं एसडीआरएफ की भी मदद ले रहे हैं। वहीं जिला एवं पुलिस प्रशासन का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है।