तेजस्वी यादव भी निकले सड़कों पर, जलजमाव वाले क्षेत्रों का किया दौरा

तेजस्वी यादव भी निकले सड़कों पर, जलजमाव वाले क्षेत्रों का किया दौरा

गुरूवार की रात राजधानी पटना में मॉॅनसून की पहली बारिश क्या हुई, नेताओं को राजधानी पटना की चिंता सताने लगी। गुरूवार को दिन में ही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अपने बीजेपी विधायकों के साथ राजधानी पटना के कई इलाकों का दौरा किया और इस बार पटना को डूबने पर अधिकारियों को परिणाम भुगतने की चेतावनी भी दी।

श्री प्रसाद की चेतावनी के 24 घंटे भी नहीं हुए और मानसून की झमाझम पहली बारिश ने ही राजधानी पटना की सूरत बिगाड़ दी। राजधानी पटना के राजवंशीनगर, पाटलिपुत्रा, अनिसाबाद, फुलवारीशरीफ समेत अनेक इलाके पानी-पानी हो गए हैं। विधानसभा के चुनावी वर्ष में राजधानी की संभावित दुर्दशा से नेताओं के भी हाथ-पांव फूलने लगे हैं।

लॉकडाउन की मियाद खत्म होने के बाद आज सीएम खुद राजधानी पटना की सड़कों पर उतरे। वे सबसे पहले पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉप्लेक्स पहुंचे जहां उन्होंने 100 बेड के बनाए गए कोरोना अस्पताल का निरीक्षण किया। उसके बाद जोगीपुर संप हाउस भी गए और उसका निरीक्षण किया।

उसके बाद मुख्यमंत्री पहाड़ी एवं बाइपास बस स्टैंड के अलावे अन्य जगहों का भी निरीक्षण किया और जलनिकासी की तैयारी का जायजा लिया। इस दौरान सीएम ने अधिकारियों को कई निर्देश भी दिए। दूसरी ओर सीएम के दौरे की सूचना मिलने के बाद विरोधी दल के नेता तेजस्वी भी सड़कों पर निकले। उन्होंने राजवंशीनगर और पटेलनगर के इलाके का जायजा लिया।

गुरूवार की रात हुई बारिश के कारण इन इलाकों में जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में तेजस्वी ने वहां पहुंचकर स्थानीय लोगों से बात की और उनका हालचाल जाना। गौरतलब है कि पिछले साल राजधानी में हुए जलजमाव के कारण सरकार की हुई फजीहत से सबक लेते हुए नीतीश ने अधिकारियों को पहले ही जलजमाव संकट से निपटने का निर्देश दे दिया है। हालांकि अभी राजधानी मे मॉनसून की पहली ही बारिश हुई है, लेकिन इसके बावजूद राजधानी के जो हालात हैं, उससे ऐसा लगता है कि फिर सरकार की किरकिरी हो तो कोई आश्चर्य नहीं।