शहीद सिदो-कान्हू की याद में मनाया गया हुल दिवस

शहीद सिदो-कान्हू की याद में मनाया गया हुल दिवस

रांची-झारखंड में आज हुल दिवस मनाया गया.शहीद सिदो-कान्हू के वंशज की हत्या हुई थी.उन्ही के याद में हुल दिवस हर साल मनाया जाता है.आज राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने राजभवन परिसर में सिदो-कान्हु के चित्र पर पुष्प चढ़ा उन्हें याद किया और श्राध्दापूर्वक नमन किया.बता दें कि सिदो-कान्हू और भोगनाडीह का झारखंड की राजनीति में खास महत्व है. आदिवासी समाज सिदो-कान्हो को अपना नायक मानते हैं. उनसे भावनात्मक जुड़ाव है. भोगनाडीह में हर साल 30 जून को हूल दिवस मनाया जाता है. यह अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई में उनके बलिदान की याद में मनाया जाता है. इस दिन झारखंड के मुख्यमंत्री भोगनाडीह जाकर सिदो-कान्हू की प्रतिमा पर श्रद्धाजंलि अर्पित करते हैं.

वही झारखंड बीजेपी ने शहीद सिदो-कान्हू के वंशज की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. बीजेपी के एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को इस सिलसिले में राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा और साहेबगंज जिले के भोगनाडीह में अमर शहीद सिदो-कान्हू के वंशज की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की. सांसद समीर उरांव ने कहा कि साहिबगंज के भोगनाडीह में अमर शहीद के वंशज रामेश्वर मुर्मू की हत्या के मामले में पुलिस प्रशासन की ओर से घोर लापरवाही बरती गई है. साथ ही इस मामले में राज्य सरकार की ओर से भी कोई उचित संज्ञान नहीं लिया गया है. लिहाजा पार्टी पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग करती है.बीजेपी सांसद ने बताया कि मंगलवार को हूल दिवस के मौके पर प्रदेश के सभी 24 जिलों में बीजेपी की ओर से डीसी को ज्ञापन सौंपा जाएगा. जिसमें शहीद के वंशज की हत्या मामले में सीबीआई जांच की मांग की जाएगी. साथ ही सिदो-कान्हू की प्रतिमा पर कल पार्टी की ओर से माल्यार्पण नहीं किया जाएगा.

13 जून को मिली थी रामेश्वर मुर्मू की लाश 

गत 13 जून को भोगनाडीह के मांझी टोला के एक खेत में सिदो-कान्हो के वंशज रामेश्वर मुर्मू का शव मिला था. 12 जून को वे घर से गए थे. परिजनों से कहा था कि बगल में जा रहे हैं. शव मिलने के बाद परिजनों ने मोमिन टोला के सद्दाम अंसारी पर हत्या का आरोप लगाया था. सद्दाम अंसारी ने न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया है.

सीएम हेमंत सोरेन ने कसा तंज 

शहीद सिदो-कान्हू के वंशज की हत्या को भाजपा द्वारा मुद्दा बनाए जाने पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने तंज कसते हुए कहा कि सीबीआई के अधिकारियों को जांच के लिए दिल्ली से झारखंड जल्द भेजा जाए. यदि सीबीआई से भी कोई बड़ी जांच एजेंसी हो तो राज्य सरकार इस मामले में जांच कराने को तैयार है. जब भाजपा जांच के लिए उत्साहित है, तो सरकार भी पीछे नहीं हटने वाली है. इस मामले में पुलिस की जांच चल रही है. जल्द ही जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की जाएगी.